आंगनवाड़ी केन्द्र के बच्चों का शाला प्रवेश

udaipur. आंगनवाडी़ केन्द्र बच्चे के सर्वांगीण विकास की प्राथमिक सीढी है, जहां बच्चों को न केवल पोषाहार प्राप्त होता है वरन यहां पर नन्हे-मुन्नेक बच्चों का शारीरिक, मानसिक बौद्विक, भाषा व सामाजिक विकास प्रारम्भ होता हैं। हिन्दुस्तान जिंक राजपुरा दरीबा द्वारा आंगनवाडी़ के बच्चों के लिए किया जा रहा काम सराहनीय है।

ऐसा रेलमगरा तहसीलदार गोवर्धनलाल जैन ने कस्बे के राजीव गांधी सेवा केन्द्र रेलमगरा पर राजस्थान सरकार, हिन्दुस्तान जिंक व वेदान्ता फाउण्डेशन के संयुक्त तत्वावधान में संचालित वेदांता बाल शक्ति आंगनवाडी परियोजना के अंतर्गत बुधवार को आयोजित शाला प्रवेशोत्सव समारोह को सम्बोधित करते हुए कहा।
अध्यक्षता करते हुए सरपंच प्रकाश चोधरी ने कहा कि वेदान्ता हिन्दुस्तान जिंक द्वारा शाला प्रवेशोत्सव का कार्यक्रम अनूठा प्रयास है। इससे न केवल बालकों का विद्यालयों में प्रवेश सुनिश्चित होगा वरन ड्रॉप आउट रेट में भी कमी आयेगी। सर्वप्रथम दीप प्रज्ज्वलन कर अतिथियों का स्वागत किया गया।

हिन्दुस्तान जिंक दरीबा के सीएसआर अधिकारी बी एल सुखवाल ने कहा कि कंपनी ग्रामीण विकास कार्यक्रम के अंतर्गत शिक्षा, स्वास्थ्य, महिला सशक्तिकरण, स्वरोजगार, कृषि-पशुपालन एवं आधारभूत संरचनाओं के विकास के लिए स्थानीय प्रशासन के साथ मिलकर प्रयासरत है। उन्होंने जिंक द्वारा संचालित विभिन्न कार्यक्रमों की जानकारी देते हुए बताया कि इस बार हिन्दुस्तान जिंक राजपुरा दरीबा ने राजसमन्द जिले के 300 आंगनवाडी केन्द्रों  के 1399 बच्चों को शिक्षण सामग्री प्रदान करने के साथ ही सभी बच्चों को अनौपचारिक शिक्षा के लिए शाला में प्रवेश दिलाने का लक्ष्य रखा है।
विशिष्टो अतिथि महिला एवं बाल विकास अधिकारी मीनाक्षी मेहता ने आंगनवाडी़ कार्यकर्ताओं को आंगनवाडी के बच्चों को विद्यालय में शत प्रतिशत नामांकन करवाने पर स्वतंत्रता दिवस पर तहसील स्तर पर सम्मानित करवाने की बात कही। अंत में रेलमगरा ग्राम पंचायत की समस्त आंगनवाडी केन्द्रों के 52 बच्चों को विधिवत तरीके से शाला में प्रवेश दिलवाया व शिक्षण सामग्री वितरण की ।
सीएसआर अधिकारी सत्यनारायण टेलर, जिंक के जनसंपर्क विभाग की टीम के सदस्य प्रद्युम्नव सोलंकी, प्रणव जैन, मैत्रेयी सांखला, मुख्य समन्वयक कैलाश सोनी, महिला पर्यवेक्षक मंजू भटनागर, कमलेश मईडा, सुशीला शर्मा, खमनोर ब्लॉक समन्वयक अशोक त्रिपाठी, वार्डपंच केसरदेवी टांक, कलस्टर समन्वयक राजमल कीर, भैरूलाल जाट, मनोज मेनारिया, संजय सेन, मदनलाल गाडरी, रूपसिंह, आंगनवाडी कार्यकर्ता, बालकों के परिजन आदि उपस्थित थे।