हिन्दुस्तान जिंक की सिल्वर रिफाइनरी को लंदन बुलियन मार्केट एसोसिएशन द्वारा मान्यता प्रदान

भारत की एकमात्र निजी कंपनी हिन्दुस्तान जिं़क लंदन बुलियन मार्केट एसोसिएशन (एलबीएमए) की ग्लोबल 82 ’’लंदन गुड डिलिवरी’’ की सूची में शामिल हुई। सिल्वर इंस्टीट्यूट द्वारा वल्र्ड सिल्वर सर्वे 2018 की रिपोर्ट के अनुसार हिन्दुस्तान जिं़क, जो भारत में 95 प्रतिशत प्राईमेरी सिल्वर का उत्पादन करती है, दुनिया की 10वीं सबसे बड़ी चांदी उत्पादक कंपनी है।

उत्तराखंड राज्य के पंतनगर में स्थित हिंदुस्तान जिं़क की सिल्वर रिफाइनरी को 16 अप्रैल 2018 से चांदी उत्पादन के लिए लंदन बुलियन मार्केट एसोसिएशन की ’’लंदन गुड डिलिवरी’’ सूची में शामिल किया गया है।
एलबीएमए एक अंतरराष्ट्रीय व्यापार संघ है जो सोने और चांदी बुलियन के लिए थोक ओवर-द-काउंटर बाजार का प्रतिनिधित्व करता है। यह संस्था उन रिफाइनरियों को सूचीबद्ध करती है जिनकी सोने और चांदी की सिल्लियों का मूल रूप से परीक्षण किया जाता है तथा लंदन बुलियन बाजार में स्वीकार्यता के लिए आवश्यक मानक को पूरा करती है। सूची में 69 सोने की और 82 चांदी की रिफाइनरियां शामिल हैं।
एलबीएमए में विस्तृत परीक्षण प्रक्रियाओं के तहत चांदी की सिल्लियों का स्वतंत्र रेफरी द्वारा जांच पड़ताल एवं क्षमताएं जाॅंची जाती है। इसमें कंपनी के स्वामित्व, इतिहास, उत्पादन क्षमता और वित्तीय स्थिति का आकलन भी शामिल है।
यह मान्यता हिन्दुस्तान जिं़क को वैश्विक स्तर की स्वीकार्यता से मेल खाती चांदी की सिल्लियों का अंतरराष्ट्रीय मानकों की गुणवत्ता का हिंदुस्तान जिं़क को सर्टिफिकेट देता है।
हिंदुस्तान जिं़क की सिल्वर रिफाइनरी भारत की तीसरी रिफाइनरी एवं एलबीएमए में सूचीबद्ध होने वाली रिफाइनरी है। भारत की अन्य सूचीबद्ध रिफाइनरियां एमएमटीसी पेम्प, मेवात और हिंदुस्तान प्लेटिनम प्राइवेट लिमिटेड, नवी मुंबई है।
हिंदुस्तान जिं़क के मुख्य कार्यकारी अधिकारी श्री सुनील दुग्गल ने कहा कि लंदन बुलियन मार्केट एसोसिएशन द्वारा उत्तराखंड राज्य के पंतनगर में स्थित हमारी सिल्वर रिफाइनरी की मान्यता प्राप्त के लिए मुझे अति प्रसन्नता है। हम वैश्विक चांदी बाजार में भारत में 95 प्रतिशत प्राथमिक चांदी उत्पादन के साथ भारत का प्रतिनिधित्व करते हैं।
वल्र्ड सिल्वर सर्वे 2018 की हाल ही रिपोर्ट के अनुसार, हिंदुस्तान जिं़क वर्ष 2017 में वैश्विक स्तर पर सिल्वर बनाने वाली शीर्ष कंपनियों में 10वें स्थान पर है। वर्ष 2017 की रिपोर्ट में भारत में लगातार तीसरे साल में विकास के रूप में दर्शाया गया है क्योंकि हिन्दुस्तान जिं़क द्वारा हाई सिल्वर ग्रेड एवं अयस्क का प्रोसेस्ड किया गया है। हिन्दुस्तान जिं़क ने 2016 की रैकिंग के अपने 18वें स्थान में आठ स्थानों की उछाल भरी है।
वित्तीय वर्ष 2017-18 में हिंदुस्तान जिं़क ने रिकॉर्ड 556 टन चांदी का उत्पादन किया है। कंपनी 30 किलोग्राम की सिल्लियों के रूप में चांदी की बिक्री करती है। कंपनी का आगामी 3-4 वर्षों में 1,000 टन चांदी उत्पादन करने का लक्ष्य है, जिससे हिन्दुस्तान जिं़क की दुनिया की टाॅप 5 सिल्वर उत्पादकों में गिनी जाएगी। घरेलू बाजार में, डिजिटल लहर, सौर ऊर्जा उत्पादन एवं आगामी इलेक्ट्रिक वाहन बाजार की वजह से चांदी की मांग में वृद्धि होगी।