हिन्दुस्तान जिंक व विधाभवन द्वारा आयोजित प्रतियोगिता

हिन्दुस्तान जिंक देबारी एवं विधाभवन सोसायटी के संयुक्त तत्वाधान में बुधवार को जिंक के खेल भवन में आधुनिक तकनीकी वरदान या अभिषाप पर आयोंजित वाद विवाद  कार्यक्रम में विद्यालय के बच्चों ने खुलकर तर्क वितर्क किया। जिससे खेल भवन तालीयों से गुंज उठा।

बच्चों ने संचार, कृषी यातायात के साधनों के बारे में बताते हुए कहा कि आधुनिक तकनीकी  वरदान साबित हुई है इससे देष विकास की ओर बढ रहा है इस पर दुसरें पक्ष के बच्चों ने इसे अभिषाप बताते हुए कहा कि आज के बच्चे मोबाइल में इतने व्यस्त रहते हैकि अपने माता पिता से दुर रहते है। इससे मानवीय संवदेना मजाक बनकर रह गई है वही कृषी के क्षेत्र में बच्चों ने कहा कि आधुनिक तकनिक से खेतों में डाले जा रहे केमीकल खाद से जमीन को नुकसान हो रहा है। इस वाद विवाद कार्यक्रम में आस पास के 17 विद्यालयों के 34 बालक बालिकाओं ने भाग लिया। वाद विवाद कार्यक्रम में पक्ष में प्रथम, द्वितिय एवं तीसरा स्थान पाने को दिव्या श्रीमाली, निहारिका प्यास, स्नेहा पालीवाल, कुलदीप मेघवाल, विपक्ष में  हीना लौहार, मोहम्मद साहील, कुष प्रजापत व सागर को पारोतोषिक दिया गया। राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय की बच्चों को जिंक डीबेट 2018 की बेस्ट परफारमेन्स की ट्राफी दी गई।  कार्यक्रम की मुख्य अतिथि हिन्दुस्तान जिंक की सीएसआर हेड निलिमा खैतान थी। प्रतियोगिता के निर्णायक हेड पर्यावरण साधना वर्मा, एजीएम टेक्निकल हेड रूचिर श्रीवास्तव, विद्याभवन के प्रसुन थे। कार्यक्रम में हिन्दुस्तान जिंक ंके ईकाइ हेड मनोज नसीने,  सीएसआर अधिकारी बुद्विप्रकाष पुष्करणा, जरनेन फातिमा,एस एन टेलर, आगुचा माइन्स से रूचिका,, रामकुमार चैधरी, दरीबा देव स्कुल की प्रार्चाय दिबीयानेन्दु, विधाभवन से प्रसुन कुमार, अरूण कुमार, भरत , सीएसआर समन्यवक  महेन्द्र बारबर, मोतीलालषर्मा, पन्नालाल मेघवाल राकेष रजक, प्रभुलाल मेघवाल सहित टीम उपस्थित थी। कार्यक्रम का संचालन हितेष, राजीव व आरती सिंह ने किया।