उदयपुर। हिन्दुस्तान जिंक को कन्फेडरेशन ऑफ इण्डियन इंडस्ट्री -इण्डियन ग्रीन बिल्डिंग काउन्सिल (सीआईआई-आईजीबीसी) ने प्लेटीनम अवार्ड 2017 से ग्रीन बिल्डिंग कांग्रेस द्वारा जयपुर में आयोजित एक भव्य समारोह में 5 अक्टूबर को सम्मानित किया।

सीआईआई-आईजीबीसी  द्वारा स्थापित प्रतिष्ठत प्लेटीनम अवार्ड से हिन्दुस्तान जिंक के प्रधान कार्यालय उदयपुर को सम्मानित किया गया है। हिन्दुस्तान जिंक भारत की कुछ गिनी चुनी कंपनियों में से एक है एवं राजस्थान की पहली कंपनी है जो सीआईआई-आईजीबीसी प्लेटीनम रेटेड बिल्डिंग्स से सम्मानित है।
हिन्दुस्तान जिंक हिन्दुस्तान जिंक के हेड-कोर्पोरेट कम्यूनिकेशन पवन कौशिक ने बताया कि इस परियोजना के तहत 27 प्रतिशत ऊर्जा की तथा 37 प्रतिशत पानी की बचत हुई है। यषद भवन के अंदर ताजा हवा के लिए वेंटीलेशन सिस्टम स्थापित गया है। 100 किलोवॉट अक्षय ऊर्जा की स्थापना की गई तथा ऊर्जा निष्पादन के ट्रेक नियंत्रण के लिए ऑनलाइन व्यवस्था की गयी है जिससे भवन की वातानुकूलित तथा वाटर रिकार्ड के लिए वाटर मीटर्स स्थापित किये गये है। हिन्दुस्तान जिंक का प्रधान कार्यालय पूर्ण रूप से सोलर ऊर्जा से संचालित है तथा कंपनी के सभी परिसर एवं सयंत्रों में हरे-भरे पौधों की ग्रीन बेल्ट हैं।
उद्घाटन सत्र के दौरान राजस्थान सरकार के उद्योग मंत्री राजपाल सिंह शेखावत ने हिन्दुंस्तान जिंक की ग्रीन बिल्डिंग परियोजना की सराहना की तथा प्रधान कार्यालय यषद भवन पूरे देश की उन इमारतों के लिए उत्कृष्ट उदाहरण है जो कि अपने कार्यस्थल को सदैव हरियाली रखे हुए है। इस अवसर पर राजस्थान सरकार के माननीय वन एवं पर्यावरण मंत्री श्री गजेन्द्र सिंह खींवसर, श्री ताई ली सियांग (चेयर ऑफ दी बोर्ड, वर्ल्ड ग्रीन बिल्डिंग काउन्सिल), टेरी विल्स (सीईओ, डब्ल्यूजीबीसी) एण्ड डॉ. प्रेम सी जैन (चेयरमैन, आईजबीसी) गणमान्य अतिथि उपस्थित रहे।
यह प्रतिष्ठित सीआईआई-आईजीबीसी प्लेटीनम ग्रीन बिल्डिंग अवार्ड श्री वी. सुरेश, चेयरमैन-पॉलिसी एण्ड एडोवेक्सी आईजीबीसी एवं हुडको, दिल्ली के पूर्व प्रबन्ध निदेशक, सीएन राघवेन्द्र, चेयरमैन, आईजीबीसी-चेन्नई चैप्टर एण्ड आनन्द मिश्रा को-चेयर, आईजीबीसी-जयपुर चैप्टर, केएस वेंकटगिरी-एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर, सीआईआई सोहराबजी गोदरेज ग्रीन बिज़नेस सेन्टर, हैदराबाद ने प्रदान किया।