आठ स्कूलों के 250 से अधिक बच्चों के लिए आयोजन

उदयपुर। हिन्दुस्तान जिंक के हेड-कार्पोरेट कम्यूनिकेशन पवन कौशिक ने कहा कि मानव को जीवन में सफलता के लिए रोड़ मैप बनाना चाहिए। वे एमएमपीएस स्कूल में उदयपुर जिले की आठ स्कूलों के 250 से अधिक बच्चों के लिए आयोजित वाक्स पाप्युलि: दि डिबेटिंग फिनामिनन प्रोग्राम में मुख्य अतिथि के रूप में संबोधित कर रहे थे।

कौशिक ने बच्चों को प्रोत्साहित करते हुए कहा कि बच्चों को शिष्टाचारी एवं अनुशासी होना चाहिए। शिष्टाचार से शिक्षा में गुणवत्ता आती है। शिक्षा के लिए इगो एटीटयूट दिमाग में नहीं रखना चाहिए। एक आदर्श विद्यार्थी में सिखने की जिज्ञासा होती है और एक आदर्श विद्यार्थी ही स्कूल में अच्छे संस्कार लेकर जीवन में कामयाब होते हैं। एक आदर्श विद्यार्थी में शिष्टाचार एवं अनुशासन के गुण विद्यमान होते है। विद्यार्थी को अपने विषय की पकड़ को पहचान कर भविष्य में कुछ बनने के लिए रोड मैप बनाना चाहिए।
उन्होंने बच्चों को भविष्य निर्माण के लिए ’कौन हॅू मैं – जीवन में क्या बनना चाहते हैं’’ के आधार पर तैयारी करनी चाहिए। बच्चों को अपने पेरेन्टस से जीवन में डाॅक्टर, आई.ए.एस., पायलट, आई.आई.एम. आई.आई.टी. एवं एम.बी.ए. में प्रवेश के लिए जिद्द करनी चाहिए। बच्चे अपने लक्ष्य के बारे में पेरेन्टस को भविष्य में कुछ बनने की जिज्ञासा के बारे में अवगत कराना चाहिए।
कार्यक्रम में बच्चों ने पहला प्रश्न जीवन के बारे में पूछा कि कैरियर समाज या परिवार के प्रभाव में बनाना चाहिए या जो अपनी इच्छा हो उसे करना चाहिए। मुख्य अतिथि ने उत्तर दिया कि अपनी इच्छा के अनुसार करना चाहिए। दूसरा प्रश्न था कि अपने अन्तर्मन की कितनी बात अपने दोस्तों को बतानी चाहिए। उत्तर था कि स्वयं को अपना निजी वक्त एवं स्पेस के आधार पर देना है।
मुख्य अतिथि ने बच्चों को कम्यूनिकेशन एवं मिडिया के बारे में विस्तृत जानकारी देते हुए कहा कि स्कूल टीचर बच्चों को उनकी हाॅबिज, क्वालिटी, इम्प्रेशन, नैतिक जिम्मेदारी एवं नेतृत्व के बारे में बूस्ट करना चाहिए। उन्होंने बच्चों को पर्सनल्टी डवलेपमेंट के बारे में एक उदाहरण देकर समझाया कि जीवन में सफल होने के लिए स्वयं को आगे आकर प्रयास करने होंगे। स्वयं को अभिपे्ररित होना होगा। बच्चों को अपने पंसद के सबजेक्ट के अनुसार कालेज में प्रवेश लेना चाहिए और उसी के अनुकूल तैयारी करना चाहिए।
महाराणा मेवाड़ पब्लिक स्कूल के प्रिसिंपल आदित्य पालीवाल ने मुख्य अतिथि पवन कौशिक को बुके देकर स्वागत किया। स्कूल के टीचर्स एवं विद्यार्थियों ने अभिप्रेरित एवं उत्साहित होकर जीवन से संबंधित प्रश्न पूछे। प्रश्नों के उत्तर से संतुष्ट होकर टीचर्स एवं विद्यार्थियों ने प्रशंसा की।